गुरुवार, 11 नवंबर 2010

चिंदी-चिंदी कविता

टिप्पणी--- यह कविता भी पिछली कविता " हादसे " की भावभूमि पर ही है। जयपुर से आदरणीय श्री हेतु भारद्वाज तथा प्रिय बन्धु और मेरे मित्र कवि गोविन्द माथुर द्वारा संपादित "अक्सर" पत्रिका में प्रकाशित हो चुकी है ।
-------------------------------------------------------------------------------------------------
ठीक कहा था उसने
" मुझे क्या बुरा था मरना
अगर एक बार होता ",
रोज़-रोज़ मरने की तकलीफ से
आज़ाद तो होता ।

तीरे नीमकश की
बात है पुरानी
अब वो
सीने पर अडाते हैं त्रिशूल ,
पूछते हैं
जाति-नाम-धर्म,
यही रह गया है
प्यार का मर्म ।

वह भी हतप्रभ है
कहा था जिसने
"उनके हर शूल के बदले
तुम बोते रहो फूल , "
नहीं पता था उसे
कितने फूल
एक त्रिशूल की लिए
होंगे कामयाब ,
इसलिए फिर मर गया
बेचारा कबीर ।

उसकी भी त्रासदी थी
ढूढता था आदमी
कहता था
" आदमी हैं यहाँ भी
आदमी हैं वहां भी , "
आदमी थे ही नहीं ,
तब भी वही थे
अब भी वही हैं
धर्मांध-कट्टर- स्वयंभू
संस्कृति -रक्षक
राम-राम
" ईश्वर-अल्लाह तेरो नाम । "

क्या हो गया है ,
रोज़-रोज़ मरते जाओ
पर राम-नाम
मरने में भी सत्य नहीं होता,
मैं ही मरता हूँ हर रोज़
पर कोई जनाज़ा नहीं उठता,
कोई मज़ार नहीं होती ,
मेरी यह मौत
कहीं कोई खबर नहीं होती,
मेरी गिनती तक
मृत लोगों में शुमार नहीं होती ।

अब क्या करूँ
किसको पुकारूं ,
गणेश का अनियंत्रित चूहा
अपनी ही जड़ों को कटता है ,
बजरंग का बन गया है दल ,
शिव की है सेना ,
दुर्गा की वाहिनी ,
अब कहाँ रहे देवता
कहाँ हैं आदमी !

मैं पूछता हूँ उस शायर से
वे लोग कहाँ हैं
जो घर बसाते हैं ,
घर बसाते टूट जाते हैं,
ज़ख्म पर मरहम लगाते हैं ?

आदमी सी शक्ल वाले
शास्त्र से माथे पर मेरे
शस्त्र सा आघात करते
कौन हैं ये लोग ?
मेरे खून से क्या गढ़ रहे हैं ?
कौन सा मंदिर या मस्जिद ?
कौन आयेगा वहां ,
कौन जाएगा वहां ,
जिसको मेरा लहू
निर्वात कर देगा ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. क्या ही लाजवाब कविता है |''शस्त्र '' और'' शास्त्र ''ये दोनों ही अंततः शासन के औज़ार हैं ,और ये अब छुपा नहीं कि शासन उन्हीके साथ है |''बजरंग ''का ''दल '' ''शिव '' की''सेना ' और ''दुर्गा '' की ''वाहिनी '..........सधी हुई बेबाक टिप्पणी..|'
    Ajanta Deo

    उत्तर देंहटाएं